त्रिदलं त्रिगुणाकारं त्रिनेत्रं च त्रियायुधम् ।
त्रिजन्म पापसंहारं एकबिल्वं शिवार्पणम् ॥ 




शिव महाकुम्भ प्रसादम्

(डाक खर्च, पैकिंग व जीएसटी सहित)
1. सवा करोड़ वेदमंत्र सिद्ध पंचमुखी रुद्राक्षमाला-1
2. सप्ततीर्थ अभिमंत्रित जल (गंगोत्री, कर्णप्रयाग,
    रुद्रप्रयाग, ऋषिकेश, हरिद्वार, प्रयाग, काशी)
3. महायज्ञ भभूत,
4. माँ पार्वती अखंड सौभाग्य सिंदूर
5. शांतिवर्धक चंदन
6. पंचमेवा
7. रक्षासूत्र
8. गौरी-महादेव सिक्का-1




Dr. BrajNandan Ji Maharaj


His Holiness Dr. BrajNandan Ji Maharaj 
Founder, Devashram Trust & Devashram Divyang University 

(AWARDEE OF WORLD INSTITUTION BUILDING AND DEVELOPMENT AWARD- 2017)

Spiritual Guru Poojya Swamy Dr. BrajNandan ji Maharaj is an Internationally Eminent Astrologer, World fame Sadhak and Occult Scientist. He creates confidence and brings light a life among people. He has chosen one on the path of harmony, love and enlightenment. His whole life is to completely supplicate himself in the service of Almighty and his millions devotees across the world. Right from the age of adolescence he was inclined to spirituality and humanity. Gradually the desire of immortal divine bliss enveloped him and a commitment to share him divine happiness among the masses made him plunge into the deep sea of celestial ecstasy. 

The blessings of “Divine Guru Maa” himself determination and the benediction of the Almighty made him transcendently stronger and richer. His profound soul during the transformation from an unknown name to “Swamy Braj Nandan ji Maharaj” explored the religious holy books like Vedas, Puranas, Upnishad, Sanhita’s, Ramayana, Jyotish, Vastu Shastra, Hast Vidya, Das MahaVidya, RajYog, Sadhna, Meditation, etc. He has honored by becoming the Founder President of Devashram Trust (An International Charity for Peace), Devashram Divyang University (dedicated to Dalits and Divyang), National Patrons for Bharat Gaurav Award Committee and many more. |

He has also been awarded and honored by most prestigious award “Man of the Year 2004” American Biographical Society, USA, World Peace Promoter, World Peace Ambassador, Dharm Bhushan, Vishwa Ekta Sammaan, Vishwa Vandhutva Samman, Vande Mataram Rashtriya Ekta Samman by Tapobhoomi GOA, Jyotish Martand, UP Ratna, Sarva Dharm Rakshak Samman, etc.

He is also a man of “Truth and Diligence” adhering the responsibilities of Advisor of Ministry of Information & Broadcasting (CBFC), HAC, MOH, DPC for Govt. of India, etc.The holy city Varanasi (UP) is the main centre of all his spiritual activities focusing “LOVE ALL! SERVE ALL!!”.


Dr. BrajNandan Ji Maharaj

परम पावन डॉ० ब्रजनंदन जी महाराज 

विश्वसन्त, विश्व विभूति, विश्वगुरु, युगपुरुष, महान तत्ववेत्ता, ज्योतिष मर्मज्ञ, दार्शनिक, विश्वशान्ति प्रणेता, विश्ववन्धुत्व प्रणेता, भारत विश्वगुरु प्रणेता, शांति हृदयसम्राट, भक्त शिरोमणि, सन्त प्रवर, धर्मसेतु, विश्व शिव महाकुम्भ संयोजक व विश्व कीर्तिमान स्थापक, जैसी नाना उपाधियों का संगम जिस विराट व्यक्तित्व सिन्धु में होता है—वे परम पूज्य श्री ब्रजनंदन जी महाराज। ऐसे अवतार पुरुष जहां भी जाते हैं, वहीं ‘कुम्भ’ का महानतम पर्व मनाया जाता है। इस धराधाम को धन्य करने वाले, अध्यात्म, धर्म, संस्कृति और संस्कार के निज किंकर आपके श्री चरणों की इस अकिंचन का बारम्बार वंदन स्वीकार हो।

सन्त सरल चित जगत हित जानि सुभाउ सुनेहु।
बाल विनय सुनि करि कृपा राम चरन रति देहु।। (1-3-ख)

मानवता के महान पुजारी, विश्व विभूति, धर्मरक्षक, देवाश्रम ट्रस्ट धर्माध्यक्ष, देवाश्रम दिव्यांग विश्वविद्यालय संस्थापक, अनंतश्री विभूषित परम पावन महाराज श्री का जीवन एक ऐसा आदर्श उदाहरण है, जिसमें ‘प्रवृत्ति’ एवं ‘निवृत्ति’ दोनों ही परम्पराओं का सांगोपांग निर्वाह दिखाई देता है। बहते युग प्रवाह में, वे एक आदर्श ‘‘युग पुरुष’’ की भांति, समाज में दिग्भ्रमित को दिशाबोध कराते हैं और अपनी अनुभूति प्रसूत वाणी और ज्ञान से नास्तिकों के अन्तःकरण में भी विश्वास की लौ जगा देते हैं। अमृत बांटने के उद्देश्य से इस धराधाम पर पधारे हुए अखिल ब्रम्हांड नायिका जगद्जननी माँ पराम्बा के उपासक, देवाधिदेव भगवान शिव के अनन्य सेवक, प्राच्यविद्या साधक, समाज के वैचारिक एवं भावनात्मक परिवर्तन लाने में निरन्तर प्रयत्नरत है। देश की राजधानी नई दिल्ली में ग्यारह दिवसीय ऐतिहासिक सवा करोड़ पार्थिव शिवलिंग निर्माण व पूजन का विश्व कीर्तिमान स्थापित कर एक शिवत्व स्वरूप आप सिद्धपुरुष और परमयोगी हैं।

आप धन्य है जिसके अन्तःकरण में विराजमान ब्रह्म सक्रिय होकर जीवन की बागडोर संभालता है। परमपूज्य महाराजश्री, उस असंख्य असहायों व पीड़ितों के दुःख दर्द की वेदना को पढ़ते हैं तो कर्ता और कर्म का भेद मिट जाता है और लोग सहजरूप से आपकी ईश्वरीय पराशक्ति पाकर जीवन को सफल और सार्थक करते हैं। उन पूर्ण आत्म-विस्मरण के क्षणों में मनुष्य उस अनन्त परम सत्य के साक्षात्कार में लीन होकर अनेकानेक तरंगे हृदय में हिलोरें लेती हैं मानो लगता है क्या यह मन्दिर की मूर्ति के शिल्पकार हैं या द्रवित हृदय वाले भक्ताग्रगण्य, सन्त प्रवर हैं? या कोई मन्त्रदृष्टा ऋषि मुनि हैं? नहीं, नहीं-यह तो साक्षात चलता-फिरता तीर्थ है, जिनका लघुतम कृपा प्रसाद, जीवन के त्रिताप और वितिम को नष्ट कर, धन्यता प्रदान कर सकता है।

अंतरराष्ट्रीय ख्यातिप्राप्ति ज्योतिर्विद परमपूज्य डॉ० ब्रजनंदन जी महाराज सामाजिक क्षेत्र में एक दैदीप्यमान नक्षत्र हैं। आपके द्वारा चलाये जा रहे “टेरर फ्री वर्ल्ड! टेंशन फ्री लाइफ!!” तथा “लव आल! सर्व आल!!” अभियान पर आपको अमेरिकन बायोग्राफिकल इंस्टीटूट अमेरिका द्वारा “मैन ऑफ द ईयर 2004” सम्मान से सम्मानित किया गया। ग्लोबल पीस अवार्ड, यूपी रत्न, भारत गौरव सम्मान, सर्व-धर्म राष्ट्रीय एकता सम्मान, विश्व वन्धुत्व सम्मान, वंदे मातरम राष्ट्रीय एकता सम्मान, ज्योतिष मार्तण्ड, विश्व शांतिदूत, अनेकानेक उपाधियों से सम्मानित स्वामी ब्रजनंदन जी महाराज को वर्ष 2017 में 38वां वर्ल्ड मैनेजमेंट कांग्रेस अधिवेशन में “वर्ल्ड इंस्टीट्यूशन बिल्डिंग एंड डेवलपमेंट अवार्ड” जैसे सर्वोच्च सम्मान से सम्मानित किया गया। भारत से यह सम्मान पाने वाले एक मात्र आप ही हैं। लॉन्स एंजिल (अमेरिका) में आयोजित त्रिदिवसीय 6 से 8 नवम्बर, 2019 के विश्वप्रसिद्ध कार्यक्रम में यूएस बिज़नेस ग्लोबल फोरम संस्था द्वारा आपको अध्यात्म जगत का सर्वोच्च सम्मान 'विश्वगुरु' से सम्मानित की घोषणा पूरे भारतवर्ष ही नही बल्कि पूरे विश्व के लिए आप एक प्रथम दैवीय युगपुरूष हैं, जिसके लिए यह वसुधा धन्य है।

आध्यात्म, धर्म, ज्योतिष, वास्तु, योग-ध्यान, पर्यावरण आदि क्षेत्र में आपके द्वारा लिखित दर्जनों पुस्तकें तथा देश-विदेश में दिए जा रहे हज़ारों प्रवचनों व धर्मिक व्याख्यानों से जन-मानस कृत्य-कृत्य है। “देवाश्रम महायज्ञ” मासिक पत्रिका का मार्गदर्शन व उसमें प्रकाशित आपके ज्ञानोपयोगी व सामयिक लेख में परम पूज्य महाराज श्री का विशिष्ट योगदान है, वह है उनकी मौलिक आध्यात्मिक दृष्टि, मानों वे इस आध्यात्मिक सम्पदा के ‘‘कुबेर’’ हैं। आप द्वारा निहित आध्यात्मिक सूत्र एवं गंभीर सिद्धान्तों की खोजपूर्ण व्याख्या, इस युग में मात्र आप ही की देन है।

सूचना व प्रसारण मंत्रालय (भारत सरकार) द्वारा नामित फ़िल्म सेंसर बोर्ड के सलाहकार, हिंदी एडवाइजरी कौंसिल, डेल्ही प्रोडक्टिविटी कॉउन्सिल, कांफिडरेशन ऑफ एनजीओज ऑफ इंडिया, आदि विभागों में सलाहकार के रूप में आपकी सेवाएं राष्ट्रधर्म की अलख जगा रही हैं। ऐसे स्वयं सिद्ध सद्गुरु का संरक्षण एवं छत्र-छाया जिसे एक बार प्राप्त हो जाय, उसके जीवन में कोई विपत्ति या संकट कभी भी भयभीत नहीं कर सकते। ऐसे सरल व महान युगपुरुष को शत-शत नमन!



“LOVE ALL! SERVE ALL!!”.
WA: +919415813002, +918840185709

Email: devashrampro@gmail.com,
Web: www.devashramtrust.org